NOKIA फेल नहीं हुआ था ! NOKIA की हत्या करि गयी थी ! देखिये खुलासा

0
198
Nokia

१८६५ में Finland में स्थापित हुई ये Multinational Corporation कंपनी जो कई प्रकार के बिज़नेस में थी ! Communication ,Information Technology और Consumer Electronics की ये कंपनी देखते ही देखते दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी बन गयी थी !
मोबिरा नाम की टेलीफोनिक कंपनी इन्होने सबसे पहले खरीद लिया था ! जिनसे इन्होने कई सारे हैंडसेट बनाना चालू किया था !
शुरू मे भारी भारी हैंडसेट इन्होने बनाये थे , जैसेकि
1982-NOKIA MOBIRA SENATOR :- फर्स्ट car फ़ोन(10Kg).
1984-NOKIA MOBIRA TALKMAN :- फर्स्ट transportable फ़ोन( 5Kg ).
1987-NOKIA MOBIRA CITYMAN:- ऐसा पहला फ़ोन जो पुरे शहर मे जा सकता था (800g).

Nokia

१९९१ में Finland के प्राइम मिनिस्टर Harri Holkeri ये पहले व्यक्ति थे जिन्होंने पहला GSM कॉल किया Nokia के फ़ोन से !
इसके बाद में १९९२ Nokia ने १०११ सीरीज बनाया था, जो धीरे धीरे यूरोप और US मार्केट में फैलने लगे थे !
फिर इसके बाद 1994 में इन्होने २१०० सीरीज का पहला feature फ़ोन दुनिया के सामने लाया , जो की बहुत शानदार था ! वो समय उन्होंने २ करोड़ फ़ोन बेचे थे !

Nokia 2100

मार्केट साइज इतना बड़ा था की २५० मिलियन फ़ोन उन्होंने पूरी दुनिया मे बेचे थे !
फिर उसके बाद देखते ही देखते Nokia ने Motorola को पीछे कर दुनिया मे नंबर १ की जगह बना ली थी !

पहले तो Nokia ने अमेरिका और यूरोप मे फ़ोन बेचे फिर धीरे धीरे developing countries रशिएा ,इंडिया,चाइना के मार्केट में छा गए !
उसके बाद Nokia ने कई सारे नए सीरीज को प्रक्षेपण किया ! उस समय टॉप ५० हैंडसेट मे से टॉप २० तो Nokia के ही हैंडसेट हुआ करते थे !

फिर २००३ – २००५ के बिच मे Nokia ने ११०० और १११० के सीरीज मार्केट में लाये !
इंडिया मे तो उन्होंने ७०% मार्केट कैप्चर कर लिया था !

Nokia 2100

फिर ऐसा क्या हुआ जिससे Nokia पीछे रह गया ?

२००८ तक Nokia का मार्केट अच्छा तो चल रहा था लेकिन अचानक अमेरिका ओर यूरोप मे Google और Android कि एंट्री हुई ! Android ये एक नया ऑपरेटिंग सिस्टम है जिसे Google ने २००८ मे रिलीज किया था !

फिर अमेरिका और यूरोप देशो मे Nokia धीरे धीरे गिरने लगा ! लेकिन Nokia एशियन मार्केट मे उस समय भी छा रहा था ! क्यू की हम सभी जानते है की सबसे पहला कदम  हैंडसेट का यूरोप और अमेरिका मे होता है !
उसके बाद मार्केट में आये Google और Apple ,जिनके कारन Nokia धीरे धीरे पूरी तरह गिरने लगा !

Nokia 2100

लेकिन  कुछ महीनो बाद एशियन मे भी सैमसंग और मोटोरोला ने Nokia को पूरी तरह गिरा दिया था !

Google के Android पे ऐसा प्लॅटफॉर्म बनाया था जहा पे मोबाइल App बनाया जा सकता था यह देखकर बाकि के हैंडसेट वाले Android पे काम करने गए !

MI ,SAMSUNG,LAVA , VIVO , INTEX , अन्य यह छोटी छोटी कंपनी भी Android पर काम करने लगी थी और देखते ही देखते वो कंपनी अब बड़ी बन चुकी है.

आज भी Nokia पहले स्थान पर रहता था अगर Nokia यह गलती ना करता तो ?

मार्केट मे जैसेही Android और Apple आये उसी समय बाकि हैंडसेट कम्पनीओने Android और Apple पर काम करना चालू किया ! क्यू की अब ये Software की दुनिया थी जो Nokia नहीं समज पायी थी !
उस समय भी Nokia अपने Hardware पे काम कर रही थी !
Nokia का खुदका अपना एक Symbian ऑपरेटिंग सिस्टम था जिसपे Nokia काम कर रहा था !
Nokia नहीं चाहता था की वो गूगल के Android पे काम करे ! उन्हें उस समय कुछ अलग करना था !
Nokia चाहता की वो अपने Symbian को आगे तक लेके जाये लेकिन ऐसा नहीं हुआ क्यू की अब Android और Apple ने अपनी जगह पूरी तरह बना ली थी !  यही कारन है Nokia का पीछे रहना ! अगर Nokia Android और एप्पल पे काम करता तो वो दुनिया मे नंबर १ कहलाता !

ऐसा क्या हुआ था जो NOKIA ने ANDROID के साथ काम करना नापसंद किया ?

अब तक सब हैंडसेट की Android और Apple पर कम्युनिटी बन गयी थी और यहाँ Nokia अपने Symbian को लेके बैठा था जो की अकेला हो गया था !
Stephen ElopNokia ने सोचा की उनका सीईओ गलत है ! फिर सप्तम्बर २०१० मे नए Nokia के सीईओ Stephen Elop आये !
जैसेही Stephen Elop आये ,वैसेही Nokia ने bounce back की कोशिश की और उन्होंने सोचा अब हम आगे बढ़ेंगे ! लेकिन Stephen Elop ने की सबसे बड़ी गलती ! कहा जाता है की वो दिन उनका ऐतिहासिक बर्बादी का दिन था !

क्यू की उस दिन Stephen Elop गूगल के सीईओ से मिलने जा रहे थे, क्यू की उन्हें बदलाव लाना था और Android पे काम करना था , जोकि Nokia के लिए अच्छा था ! उन्होंने सोचा अब Android ले लेते है और उसपे काम करते है !

लेकिन स्टेफेन एलोप ने ऐसा नहीं किया वो उस दिन गूगल के पास ना जाकर माइक्रोसॉफ्ट के पास गए !


यही बड़ी गलती की थी Stephen Elop ने ! Stephen Elop चाहते थे की उन्हें Android पे नहीं जाना ,उनका
कहना था की गूगल के पास हर कोई जा रहा है, तो हम क्यू जाये !

 

 

 

जैसेही उन्होंने Microsoft से हात मिला लिया ! उन्होंने सोचा हमारे पास Hardware है और Microsoft के पास Software तो हम दुनिया मे नंबर १ स्थान पर आ जायेंगे !लेकिन ये यह उनकी बड़ी गलती थी !

 

 

 

Nokia ने कुछ हैंडसेट तो Microsoft के साथ मिलकर बनाये थे लेकिन वो भी नहीं चल सके !

Nokia-lumia

हलाकि की इन्होने शुरुआत तो किया था पर विंडोज के प्लॅटफॉर्म पे कोई मोबाइल app नहीं बना रहा था !

फिर यह हुआ की वह गूगल बड़ा होता गया और Owner,Developer ,manufacturer गूगल पर आ गए !
इसी दौरान यहाँ विंडोज Nokia lumia और बाकि अन्य Nokia मोबाइल्स का विनाश हो गया !!

कहा जा रहा है की Nokia के बर्बादी का कारन Stephen Elop है !
क्यू की Stephen Elop Nokia से पहले Microsoft मे ही काम करते थे जो की बड़े पद पे थे इसलिए वह गूगल के पास ना जाकर जानबूचकर Microsoft के पास गए थे !

वो सोच रहे थे की Microsoft Nokia को खरीद लेगा और वो Microsoft मे सीईओ बन जायेगा . उन्हें पता था की Nokia को गूगल के पास जाना था लेकिन वो जानबूचकर नहीं गए ! हलाकि Nokia के पास Symbian के आलावा मीगो यह एक नया ऑपरेटिंग सिस्टम था जो की बहुत चल रहा था लेकिन Stephen Elop ने उसे भी नहीं अपनाया और जानबूचकर Microsoft के पास गए .

यही कारन था Nokia की बर्बादी का………………………

इसी तरह जुड़े रहिये हमारे लेख से ………………………..

धन्यवाद्!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here